Search

29 मई 2015

हिंदी कविता: प्यार की कलियाँ

प्यार के लिए प्यार ने प्यार से लिखी प्यारीसी कविता| यह कविता हमारे मराठी ब्लॉग विचारयज्ञ पर 'प्रेमफुलं फुलताना' का हिंदी रूपांतरण है| 



Image: Red Buds



प्यार सीख नहीं सकते 
प्यार को सीखा भी नहीं सकते 
प्यार करना समझा भी नहीं सकते 
प्यार को तो केवल 'जी' सकते हैं 
प्यार में ही 'प्यार' का अनुभव कर सकते हैं 


प्यारको शब्दों में नहीं बांध सकते 
प्यारको तो लिख और गा भी नहीं सकते 
प्यारमें सिर्फ 'प्यार' को ही बाँध सकते हैं 
प्यार का गीत प्यार से ही गा सकते हैं 

प्यार जीना सीखाता है 
प्यारसे ही दुनिया को देखना सीखता है 
प्यार शब्दों को भी जीना सीखता है 
जीवन देकर खिलना सीखता है 
प्यार तो गीतों को भी गाना सीखाता है 
प्यार का संगीत तो बस 'प्यार' ही होता है 

प्यार संगीत को भी सुर देता है 
सुरों को जीवन देता है 
प्यार का राग, प्यार का गीत 
अपने ही स्वरसे प्यार खुद प्यार ही गाता है 

प्यार बहुत मीठा होता है 
मिठास को भी मिठास का अर्थ प्यार ही देता है 
मिठास को अपनीही मिठास का अनुभव प्यार देता है 
प्यार की मिठास को प्यार ही बताता है

प्यार को व्यक्त नहीं कर सकते 
प्यार अपने आप ही अभिव्यक्त होता है 

प्यार के छंदों से प्रेमकाव्य खिलता है 
प्यार अपने ही प्यार से 
प्यार के फूलों को जन्म देता है 
प्यार की कलियाँ खिलती है 
तो उनके लिए प्यार की छाया 
प्यार ही बनता है 
प्यार के स्पर्श से 
प्यार की सुगंध को 
प्यार ही दुनिया में फैलाता है   

प्यार पर और प्यारभरी कविताएँ: