Search

04 जून 2017

कविता: तुम ही तुम हो

ख्वाब तुम्हारे हैं
जिंदगी तुम्हारी है
जीने की आस तुम हो
मन की लगन तुम हो