Search

12 अगस्त 2011

रक्षा का प्यार भरा बंधन

कल रक्षाबंधन का त्योहार है और मेरे प्यारे भाइयों के लिए मेरा प्यार इस काव्य में .........

रक्षा का जो वचन
दिया था तुमने
हर बुराईसे, हर दु:ख दर्द से
हर पीड़ा, हर दहशत से
यूँही निभाते रहना
प्यार जो तुमने कहा था बचपनसे
प्यार जो तुमने किया था बचपनसे
यूँही निभाते रहना
तेरे जैसा वचन किसीने न दिया
प्यार इस भोलीसे,
भोलासा जो तुमने किया
ओ मेरे प्यारे भाई
ऐसेही जीवनभर साथ रहना
तुम ‘दीपक’ हो मेरे
अँधियारे जीवन में
तुम ‘ज्ञानेश’ हो मेरे
अध्यात्म जीवन में
‘नवीन’ हो तुम हर पल भैया
दु:खोंसे मुझे दूर रखो
हर क्षण भैया 
ईश्वरस्वरूप 'गोविंद'
हो तुम हे मेरे प्यारे भैया 


रक्षाबंधन पे मेरी अंग्रेजी कविता मेरे भाइयों के लिए Bond of Rakhi
दीपक के लिए कविता :           अगर तुम न होते दीपक
                                              Life is so beautiful When
ज्ञानेशदादा के जन्मदिवस पे : Dnyanesh - The God of Knowledge

9 टिप्‍पणियां:

  1. Bohot hi sundar kavya is hardik uplaksh par..Dil khush kar diya..

    उत्तर देंहटाएं
  2. सिमरन मुझे भी खुशी हुई आपको फिरसे यहाँ देखके| बहुत बहुत प्यार आपको|

    उत्तर देंहटाएं
  3. गोविंद चैतन्यपूजा में तुम्हे देखकर बहुत खुशी हुई, और वोह भी रक्षाबंधन पे| मुझे खुशी है, प्यार का यह छोटासा एहसास तुम्हे अच्छा लगा| :)

    उत्तर देंहटाएं
  4. Bahut khub....behatraeen kavya...Apko aur apke Bhayion ko meri aur se iss paawan parv ke uplaksh par bahut bahut badhai....

    Happy Raksha Bandhan..

    App bhi mera aur simran ka kavye padhe>>>>

    http://nimhem.blogspot.com/2011/08/raksha-bandhan-thread-of-protection.html

    उत्तर देंहटाएं
  5. हेमा, बड़ी प्रसन्नता हुई आपको भी यह अच्छा लगा....आपको भी ढेर सारी शुभकामनाएँ| :)

    उत्तर देंहटाएं
  6. कितना सुंदर काया है!
    शब्द नहीं है मेरे पास|

    उत्तर देंहटाएं
  7. कमाल तो तेरे प्यार का है...दीपक| :) मुझे बहुत खुशी हुई, तुमने यह सब पढ़ा|

    उत्तर देंहटाएं

चैतन्यपूजा मे आपके सुंदर और पवित्र शब्दपुष्प.........!