Search

29 नवंबर 2010

काव्य कुछ नया सा

लिखना है कुछ नया 
करना है कुछ नया 

ऐसा हो काम मेरा 
हर दिन बने कुछ नया 

नूतनताही अस्तित्व मेरा 

प्रवाही है जीवन मेरा

हर क्षण हो कुछ नया 
सुबह शाम हर पल नया 

बीती बातें छूट गयीं 
आनेवाली दिखने लगी 

स्मरण रहा कुछ नया 
स्मरण होगा कुछ नया 

इतिहास बनेगा अब नया 
जीवन बनेगा वहि नया 

सामान्य होगा पर मन नया 
विशिष्ट होगा पर कल नया 

सबमे होगा फिर भी नया 
अलग होगा कुछ और नया 

पुराना भी कुछ नया 
नया तो है सदा नया 

नूतनता यह है क्या 
आशाकी कोई किरण नयी 

आगे और है कुछ  नया 

6 टिप्‍पणियां:

  1. bahut badhiya...very much on the likes of Vajpayee ji and Hariwansh Rai sahab....

    उत्तर देंहटाएं
  2. नमस्ते नटवरजी!

    बहुत बहुत धन्यवाद! आपने तो मेरा बहुत बडा सम्मान कर दिया| मै क्या बोलु? मेरा विनम्र अभिवादन इन महान कवियोको और आपको भी|
    यह चैतन्य की पूजा है, मुझे तो कुछ आता नही, परंतु चैतन्य की पूजा स्वयं चैतन्यसे हो रही है, चैतन्यकी अभिव्यक्ती वास्तवमे दिव्यं आनंदप्रद है| पुनः धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  3. यदि आप 'प्यारी मां' ब्लॉग के लेखिका मंडल की सम्मानित सदस्य बनना चाहती हैं तो
    कृपया अपनी ईमेल आई डी भेज दीजिये और फिर निमंत्रण को स्वीकार करके लिखना शुरू
    करें.
    यह एक अभियान है मां के गौरव की रक्षा का .
    मां बचाओ , मानवता बचाओ .

    http://pyarimaan.blogspot.com/2011/02/blog-post_03.html

    उत्तर देंहटाएं
  4. डॉ. अन्वरजी चैतन्यपूजा मे आपका हार्दिक स्वागत! आपने 'प्यारी मा' ब्लॉग मे लेखिका मंडल की सन्मानित सदस्या बनने के लिये आमंत्रित करके वास्तव मे मेरा बहुत बडा सम्मान किया है| मा के विषय मे लिखना किसे अच्छा नही लगेगा| आपसे संपर्क करूंगी| मै छोटे शहर से हू अत: धीमा नेट संपर्क और बिजली की कमी ऐसे कारणो से आपको उत्तर देने मे विलंब हुआ| मै आपकी क्षमाप्रार्थी हूँ| आपका सहयोग और मार्गदर्शन मिलता रहे ऐसी आशा है |

    उत्तर देंहटाएं
  5. डॉ. अन्वरजी चैतन्यपूजा मे आपका हार्दिक स्वागत! आपने 'प्यारी मा' ब्लॉग मे लेखिका मंडल की सन्मानित सदस्या बनने के लिये आमंत्रित करके वास्तव मे मेरा बहुत बडा सम्मान किया है| मा के विषय मे लिखना किसे अच्छा नही लगेगा| आपसे संपर्क करूंगी| मै छोटे शहर से हू अत: धीमा नेट संपर्क और बिजली की कमी ऐसे कारणो से आपको उत्तर देने मे विलंब हुआ| मै आपकी क्षमाप्रार्थी हूँ| आपका सहयोग और मार्गदर्शन मिलता रहे ऐसी आशा है |

    उत्तर देंहटाएं
  6. नमस्ते नटवरजी!

    बहुत बहुत धन्यवाद! आपने तो मेरा बहुत बडा सम्मान कर दिया| मै क्या बोलु? मेरा विनम्र अभिवादन इन महान कवियोको और आपको भी|
    यह चैतन्य की पूजा है, मुझे तो कुछ आता नही, परंतु चैतन्य की पूजा स्वयं चैतन्यसे हो रही है, चैतन्यकी अभिव्यक्ती वास्तवमे दिव्यं आनंदप्रद है| पुनः धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं

चैतन्यपूजा मे आपके सुंदर और पवित्र शब्दपुष्प.........!